21-Jul-2020 21:16:56 pm    171

जानिए इस साल अमरनाथ यात्रा रद्द कियों ?

कोरोना महामारी की वजह से मोदी सरकार ने इस साल अमरनाथ यात्रा रद्द कर दी है....

post

अमरनाथ गुफा भारत के जम्मू और कश्मीर में स्थित भगवान् शिव का मंदिर है। यह गुफा जम्मू और कश्मीर की राजधानी श्रीनगर से लगभग 141 किलोमीटर दूर 3,888 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है.
यहाँ हिन्दू धर्म के श्रद्धालु सावन के महीने में भगवान् शिव के शिवलिंग की दर्शन के लिए जाते हैं. लेकिन इस साल यह यात्रा रद्द कर दी गयी है. कियोंकी देश में कोरोना संकट के लगातार बढ़ते मामले की वजह से इस साल मोदी सरकार ने अमरनाथ यात्रा रद्द कर दी है. 

कोरोना वायरस के लगातार बढ़ने की वजह से इस बार अमरनाथ यात्रा रद्द करने की सरकार ने फैसला लिया है . देश में अबतक 1155191 लोग कोरोना संक्रमित हो चुके हैं. जम्मू-कश्मीर में अब तक 14650 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हुए हैं. इनमें से 254 लोगों की मौत हुई है. 

अमरनाथ की यात्रा भगवान शिव के उपासकों के लिए भारत में सबसे महत्वपूर्ण तीर्थ यात्रा है। अमरनाथ गुफा प्राकृतिक रूप से निर्मित शिवलिंग नामक बर्फ की एक निर्दिष्ट छवि के लिए अभयारण्य है, जो भगवान शिव के सदृश है।

अमरनाथ में हर साल लाखों श्रद्धालु और पर्यटकों द्वारा दौरा किया जाता है, जिसे 'अमरनाथ यात्रा' के नाम से जाना जाता है। अमरनाथ गुफा को तीर्थयात्रियों के लिए एक श्रद्धालु स्थान माना जाता है, अमरनाथ का गुफा यह वही स्थान है जहां भगवान शिव ने देवी पार्वती को जीवन और अनंत काल का रहस्य बताया था।

अमरनाथ गुफा जुलाई-अगस्त के सावन महीनों के दौरान ही खुलता है | अमरनाथ यात्रा शुरू करने के लिए दो मार्ग उपलब्ध हैं - बालटाल या पहलगाम के रास्ते। बालटाल मार्ग, हालांकि छोटा है, में एक छोटा ट्रेकिंग मार्ग है। पहलगाम मार्ग लंबा है लेकिन आमतौर पर ज्यादातर श्रद्धालुओं द्वारा पसंद किया जाता है। आमतौर पर आधार बिंदु से अमरनाथ तक पहुंचने में 3-5 दिन लगते हैं। इन दोनों मार्गों पर निजी ऑपरेटरों द्वारा अब हेलीकाप्टर सेवाएं उपलब्ध हैं। भक्तों को अग्रिम बुकिंग करने और अमरनाथ की पवित्र यात्रा करने के लिए पंजीकृत होने की आवश्यकता है।

हेलो दोस्तों लाइक और शेयर तो बनता है

trendenews Corona

rahatfoundation.in